2018 में बनी कांग्रेस की सरकार द्वारा जैसलमेर को सालेह मोहम्मद के रूप में पहला मंत्री दिया गया है। दरअसल, सालेह मोहम्मद को अशोक गहलोत की कैबिनेट में मंत्री बनाया गया है।

इसी बीच 2 जनवरी को सालेह मोहम्मद ने पोकरण से चार किलोमीटर की दूरी पर स्थित शिधेश्वर महादेव मंदिर में भगवान शिव की पूजा अर्चना की। जिसके साथ उन्होंने हिंदू धर्म के प्रति आस्था का संदेश भी दिया है।

आपको बता दें, मंत्री बनने के बाद सालेह मोहम्मद पहली बार पोकरण पहुंचे और उन्होंने यहां आते ही सबसे पहले शिव मंदिर में पूजा अर्चना कर राजनीतिक व सामाजिक हलकों में भूचाल सा ला दिया है। जिससे उन्होंने यह साबित कर दिया है कि मुस्लिम धर्म के साथ ही वे हिन्दू धर्म मे भी विश्वास रखते है, वे किसी समारोह में जाते हैं तो तिलक भी लगाते हैं। 

ऐसा माना जाता है कि पोकरण के शिधेश्वर मंदिर में जो कोई भी आता है उसकी मनोकामना पूरी होती है। पंडित मधुसूदन के अनुसार सालेह मोहम्मद पिछले 10 वर्षों से इस मंदिर आ रहे हैं और भगवान शिव की पूजा अर्चना कर रह हैं लेकिन पिछले 10 सालों में इस बात का कहीं भी जिक्र नहीं हुआ है।

पंडित मधुसूदन ने यह भी कहा कि इस मंदिर में कलन्दर सांप भी पहुंचता है और शिवलिंग पर लिपटा हुआ भी दिखता है।

मधुसूदन ने यह भी बताया कि मंत्री शाम को यहां पहुंचे थे और शिवलिंग पर दुग्धा अभिषेक, जलाभिषेक, गन्ने के रस से अभिषेक कर महादेव को प्रसन्न कर अमन चैन खुश हाली की कामना की।

वहीं उन्होंने बताया कि सालेह मोहम्मद ने इस दौरान तिलक भी लगाया और माला धारण की और कलेवा भी बंधवाया, साथ ही रुद्राभिषेक भी किया और जल और बेलपत्र भी शिव पर चढ़ाए।